बवासीर के घरेलु उपचार कारण और लक्षण। Piles Symptoms in Hindi

बवासीर के लक्षण और उपचार इन हिंदी। नमस्कार दोस्तों सबसे पहले मेँ आपको बता दू की बवासीर को piles और Hemorrhoids के नाम से भी जाना जाता है। बवासीर दो तरह की होती है पहली खूनी बवासीर और दूसरी अंदुरुनी बवासीर। इस बीमारी में गुदा के पास मस्से निकल आते है और जिससे खून का निकलना ,खुजली का मचना ,और तेज दर्द की शिकायत होती है। ज्यादा खून आने के कारण  मरीज को कमजोरी आने लगती है। इस बीमारी का इलाज घरेलु नुस्खे और आयुर्वेदिक उपचार से ही बवासीर का इलाज किया जा सकता है अगर आपको इस बीमारी का शुरू में ही पता चल जाये तो आप बड़े आसानी से इसे रोक सकते है।

बहुत से लोगो को बवासीर होने के बाद भी दुसरो को बताने में शर्म महसूस करते है लेकिन दोस्तों  मै आपको बता दू की बवासीर उन बीमारियों में से नहीं की जो की अपने आप ठीक हो जाये। इसलिए जितना जलती हो सके इसका इलाज करना जरुरी होता है। तो दोस्तों हम आपको इस लेख में आपको बवासीर को ख़त्म करने के बेहतर घरेलु उपाय बताने जा रहे है। अगर आप बवासीर से पीड़ित है तो आप इन नुस्खे का पालन कर सकते है।

बवासीर के प्रकार। Type of Piles

दोस्तों बवासीर 2 प्रकार की होती है बाहरी बवासीर और अंदरूनी बवासीर। अगर बवासीर रोगी को टॉयलेट करते बक्त खून निकलता है तो उसे हम खूनी बवासीर भी कहते है।

अंदरूनी बवासीर। Internal Piles

  • अंदरूनी बवासीर बाहरी बवासीर से ज्यादा खतरनाक होती है। अंदर की बवासीर में जो मस्से होते है बो गुदा के अंदर की तरफ होते है और जब आप टॉयलेट करते है तो इन मस्से में तेज दर्द होने लगता है और खून भी आने लगता है।
  • जब इस रोग की शुरुआत होती है तो गुदा के पास रक्त नलिका में सूजन आने लगती और अगर इसका समय पर इलसज नहीं कराया तो सूजन और बढ़ने लगती है जो बवासीर के मस्से का रूप ले लेती है और मल त्याग करते समय ये मस्से बाहर की तरफ आ जाते है और उनसे खून आने लगता है। जिस आपको परेशानी और बढ़ने लगती है।

बाहरी बवासीर। External Piles

  • दोस्तों बाहरी बवासीर में मरीज के गुदा के बहार की तरफ मस्से हो जाते है जिसमे खुज़ली होती है और मस्सो को खुजलाने पर इनमे खून निकलना शुरू हो जाता है जिससे मरीज को काफी परेशानी का सामना काना पड़ता है।

 बवासीर के लक्षण। Symptoms of Piles

सबसे पहले मै आपको बता दू की अगर आप बवासीर Piles के रोगी है तो उसका जल्द से जल्द इसका इलाज कराये उसे लम्बे समय तक नजरअंदाज न करे इससे आपकी समस्या और बढ़ जाएगी। इससे बचने के लिए आप इसका इलाज समय से शुरू कराये और समस्या गंभीर होने पर बिना किसी शर्म के तुरंत डॉक्टर से मिले। तो जानते है की बवासीर के क्या क्या लक्षण होते है। Symptoms of Piles in Hindi 

  • मस्सो से खून का आना।जाने खून की कमी को दूर करने के उपाय
  • गुदा के पास मस्से या कोई गांठ होना।
  • टॉयलेट करते समय अगर आपको खून आ रहा है तो ये बवासीर का मुख्य लक्षण है। अगर समस्या काम होती है तो खून बूंद बूंद करके  आता है। और बहुत सी बार तो खून की तेज धार बन जाती है जिससे मरीज घबरा जाता है।
  • बार बार टॉयलेट करने पर मल त्यागने के बक्त मल न निकलना।
  • गुदा के द्वार पर खुजली और दर्द का होना piles के लक्षणों में से एक है।
  • मल त्यागते समय मल के साथ बलगम का आना।
  • शौच करते समय बहुत अधिक तकलीफ होना।

नोट। दोस्तों बहुत से लोग समझते है की बवासीर का ऑपरेशन करने से इससे छुटकारा मिल जायेगा लेकिन कई बार देखा गया है की ऑपरेशन के बाद भी बवासीर दुबारा हो जाती है। अगर आप कुछ घरेलु और आयुर्वेदिक उपचार का सेवन करे तो बवासीर को जड़ से ख़त्म कर सकते है।

बवासीर के कारण। Causes of Piles in Hindi

  • बवासीर का सबसे प्रमुख कारण पेट में कब्ज का होना होता है। कब्ज की ही बजह से मल त्याग करते समय आपको जोर लगाना पड़ता है जिससे गुदा के पास जो रक्त नलिकाएं होती है उन पर दबाब पड़ता है जिससे उसमे सूजन आने लगती है और ये बवासीर का रूप ले लेती है।
  • उम्र बढ़ने के साथ साथ भी ये रोग होता है। उम्र बढ़ने के साथ साथ गुदा का अंदरूनी भाग कमजोर हो जाता है जिससे बवासीर की शिकायत हो जाती है।
  • गैस ,मल ,मूत्र आने ओर ज्यादा देर रोकना नहीं चाहिए इससे भी बवासीर हो सकती है। जाने पेट में गैस के इलाज के 10+आसान उपाय 
  • ज्यादा देर तक साँस रोककर रखने से गुदा पर दबाब पड़ता है जिससे बवासीर की शुरुआत होने लगती है।
  • बवासीर के मुख्य कारणों में से एक है की आप ज्यादा तला हुआ मसालेदार ,जंक फ़ूड खाने से पाचन तंत्र कमजोर हो जाता है और इससे पेट में कब्ज बनने लगती है और कब्ज बनने से बवासीर होती है।
  • शराब ,तम्बाकू ,धूम्रपान का सेवन करना भी बवासीर का मुख्य कारण होता है।
  • शरीर में मोटापा का होना भी बवासीर का कारण हो सकता है। जिन लोगो का बजन ज्यादा होता है और पेट बहार की ओर निकला होता है उन्हें पेट के बढ़ते दबाब के कारण बवासीर होती है। जाने मोटापा कैसे कम करे/मोटापा कम करने के घरेलू उपाए

बवासीर का घरेलू इलाज। Piles Treatment at Home in Hindi

  • अगर आपको खूनी बवासीर है तो आप दही के साथ कच्चे प्याज का सेवन करने से कही हद तक बवासीर काम हो जाएगी।
  • आप कड़वी तुरई और हल्दी का लेप बना ले और उस लेप को मस्से पर लगाए उससे मस्से ख़त्म हो जायेंगे।
  • दोस्तों आप मूली और मूली का रोजाना पीने से बवासीर ठीक हो जाएगी।
  • गुड़ और हरड एक साथ खाने से बवासीर ख़त्म हो जाएगी।
  • मस्सो को ख़त्म करने का सबसे आसान उपाय है की आप सहजन और आक के पत्तो का लेप मस्सो पर लगाने से मस्से नष्ट हो जायेगे।
  • आप अरंडी का तेल 80 ग्राम और 10 ग्राम कपूर ले। और इससे गर्म तेल में मिलाये। और उसके बाद अब मल त्यागने के बाद मस्से को धो कर उस पर लगाए।
  • बवासीर का उपचार करने के साथ साथ ये भी जरुरी है के आप अपना खाने पीने पर भी ख्याल रखे।
  • अगर आपको खूनी बवासीर है तो आप नीबू को काटकर इस पर 4 ग्राम कत्था बुरक दे। और उससे रात को छत पर रख दे। और सुबह को इस नीबू को चूसे। इस देसी नुख्से को आप लगभग 5 दिन तक करे।

बवासीर से बचने के उपाय

  • अगर आप बवासीर से बचना चाहते है तो आप पपीता ,आम और अंगूर का रोजाना सेवन करने से बचा जा सकता है।
  • बवासीर बाले मरीज को हमेशा खुश और मानसिक तनाब से दूर रहना चाहिए।
  • बैगन की सब्जी और आलू काम खाये।
  • मसालेदार, तले हुए चीजों से दूर रहे और जंक फ़ूड न खाये।
  • शराब ,धूम्रपान ,और गुटखा से परेज रखे।
  • एक ही जगह पर ज्यादा देर तक न बैठे इससे बवासीर के मस्से होने की सम्भ्बना और अधिक हो जाती है।
  • अगर जिन लोगो को बवासीर नहीं है और बो बवासीर की समस्या से बचना चाहते है तो बो लोग रत को जल्दी सो जाये और सुबह को जल्दी उठे।

दोस्तों अगर आपको बवासीर के घरेलु उपचार कारण और लक्षण। का ये लेख अच्छा लगा हो तो हमे कमेंट करके जरूर बताये। और अगर आपको इससे related कोई भी परेशानी हो तो हमसे जरूर पूछे।

About the author

Dilshad Saifi

Hey, My Name is Dilshad Saifi by Procession i'm a Pharmacist and Blogger by Choice. I write about Health, Fitness, Internet and Tech.

Leave a Comment